JAIN MUNI SHRI PULAK SAGAR JI MAHARAJ

मुनि श्री 108 पुलक सागर जी महाराज एक दिव्य आत्मा छत्तीसगढ़ में एक बहुत छोटी लेकिन भाग्यशाली, Dhamtri गांव में पैदा हुआ था; इस आत्मा मुनि पुलक सागर जी महाराज के अलावा अन्य कोई नहीं था. उसका जन्म श्री की घर में सुख, धन, सम्मान और शांति लाए. Bhikamchand जी और श्रीमती. गोपी बाई जैन, इस बच्चे के माता - पिता. दीक्षा से पहले उसका नाम सिर्फ उसकी आत्मा, पारस की तरह था, कि पवित्र मतलब है. यह सच जैन धर्म के अनुयायी और प्रभु Parasvanath के भक्त मानव जाति की सेवा की और श्री के मार्गदर्शन में जैन धर्म का प्रचार किया. Pushapdant सागर जी महाराज..

Upcoming Events
hello
News
Lorem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry. 1500s, when an
Ipsum has been the industry's standard dummy text ever since the 1500s, specimen book. It has
1500s, when an unknown printer took a galley of type and scrambled it to make a type
Recent Video
MANCH
Membership Forms
Directory Mahila Manch
JAN SEWA
Vatsalya Dham
Tirth Nirman Rachnatmak Kriya
Suvichar

01

मंज़िल पाना है तो हौसला साथ रखिए , दोस्ती पाना है तो विश्‍वास साथ रखिए , दुनिया मॅ तो गम ही गम है हमेशा मुस्कुराना है तो गुरुदेव की बातें याद रखिए

02

तुम्हारी शराफ़त का पता तब चलता है जब तुम गुस्से में भरकर बोलते हो..

03

यदि ईश्वर तमाम खुशियाँ इंसान की किस्मत में लिख दे तो फिर हमें प्रार्थना करना ज़रूरी क्यू बताता

04

जब हमे सफलता मिलती तो दुनिया मे हमारी पहचान बनती है,ऑर जब हमे असफलता मिलती है तो हमे दुनिया की पहचान होती है

05

अगर कोई आपको अच्छा लगता है तो अच्छा वो नही अच्छे आप है क्योकि आपने उसमे अच्छाई खोजी है

06

पैसो की धूप आँगन मे आते ही संबंधो के गुलाब मुरझाने लगते है

07

दुश्मन को दूर नही अपने पास रखो की एक दिन दुश्मनी का इरादा अपने आप बदल जाएगा

08

पुरानी चीज़ो की कद्र उस घर मे होती है जिस घर मे बुजुर्ग होते है

09

अपनी हज़ारो ग़लतियो के बाद भी हम अपने आपको प्यार करते है फिर किसी की एक ग़लती पर उससे नफ़रत क्यो करते है

10

कुछ लोग ग़लत काम भी सही तरीके से करते है इसलिए वो सफल है और कुछ लोग सही काम भी ग़लत तरीके से करते है इसलिए वे असफल है

11

जिंदगी भी कितनी वेवफा है कि हम उसे रोज संभालते है और वह हर सुबह हमारी उम्र कम करते जाती है

12

खुशी के लिए काम करोगे तो खुशी नही मिलेगी लेकिन खुश होकर काम करोगे तो खुशी ज़रूर मिलेगी

13

जिनके पास मीठी ज़ुबान होती है उन्हे हीरें मोती पहनने की जरूरत नही होती !

14

मंदिर में वो भगवान है जिसे हमने बनाया है घर मे माँ बाप वो भगवान है जिन्होने हमे बनाया है!

15

समाज मे प्रेम रखना है तो मंदिर मे सामूहिक भजन करो और घर मे प्रेम रखना है तो परिवार मे सामूहिक भोजन करो!

16

जब पुराने कॅलंडर को नये बर्ष के आने पर घर की दीवारो से उतार देते है तो पुरानी बातों को दिल की दीवारो से क्यो नही उतार देते?

17

दुनिया मे सभी रिश्ते मे माँ का रिश्ता सबसे बड़ा है क्योकि उनकी आयु नौ माह अधिक है

18

आदमी जितनी मेहनत नाकामयाबी के रास्ते निकालने मे करता हैं यदि उतनी मेहनत क़ामयाबी के लिए करे तो सब आसान हो जाये!

19

मेहनत से जी चुराकर भाग्य पर विश्‍वास करने वाला अभागा ही होता हैं !

20

जिंदगी में सब कुछ अपनी शर्तो पर नहीं होता,सब कुछ जीतने के लिए कभी कभी बहुत कुछ हारना पड़ता हैं !

fatcow reviews

Advertisment / Sponsership